Latest news
डॉ वेद प्रताप वैदिक और पूर्व कैबिनेट मंत्री चौधरी हरि सिंह सैनी ने स्वर्गीय श्री सहीराम जौहर को एक स... ਪਾਕਿਸਤਾਨ ਵਿੱਚ ਜਨਮੇ ਇਸਲਾਮਿਕ ਪ੍ਰਚਾਰਕ ਸਾਕਿਬ ਇਕਬਾਲ ਸ਼ਮੀ ਦੇ ਵਾਰੰਗਲ ਵਿੱਚ ਦੌਰੇ ਲਈ ਭਾਰਤੀ ਵੀਜ਼ਾ ਵਿਵਸਥਾਵਾਂ ਦੀ ... 2030 ਤੱਕ ਭਾਰਤ ਵਿੱਚ ਊਰਜਾ ਖੇਤਰ ਵਿੱਚ ਕ੍ਰਾਂਤੀ ਆਵੇਗੀ - ਪੀਐਮ ਮੋਦੀ ਇਹ ਪਹਿਲੀ ਵਾਰ ਹੈ ਕਿ ਕਿਸੇ ਭਾਰਤੀ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਸਿੱਖਾਂ ਦੇ ਲੰਬੇ ਵਾਲਾਂ ਅਤੇ ਜੂੜੇ ਪ੍ਰਤੀ ਸੰਵੇਦਨਸ਼ੀਲਤਾ ਦਿਖਾਈ ਅਤੇ ਉਹ... ਅੰਮ੍ਰਿਤਸਰ 'ਚ ਬੰਦੂਕ ਦੀ ਨੋਕ 'ਤੇ ਖੋਲ੍ਹਿਆ ਟ੍ਰੈਫਿਕ: ਜਾਮ 'ਚ ਫਸੀ ਕਾਰ, ਵਿਅਕਤੀ ਨੇ ਕੱਢਿਆ ਰਿਵਾਲਵਰ ਬਾਇਓਫਰਟੀਲਾਈਜ਼ਰ ਲੈਬਾਰਟਰੀ ਸ਼ੁਰੂ ਕਰਨ ਵਾਲਾ ਭਾਰਤ ਦਾ ਪਹਿਲਾ ਰਾਜ ਬਣਿਆ ਪੰਜਾਬ ਪੰਜਾਬ ਪੁਲਿਸ ਵੱਲੋਂ ਵੱਡੀ ਕਾਰਵਾਈ ਕਰਦਿਆਂ ਲਾਰੈਂਸ ਬਿਸ਼ਨੋਈ, ਗੋਲਡੀ ਬਰਾੜ ਨਾਲ ਜੁੜੇ ਵਿਅਕਤੀਆਂ ਦੇ 1490 ਸ਼ੱਕੀ ਟਿਕਾਣਿ... ਬਾਲ ਵਿਵਾਹ ਦੇ ਵਿਰੁੱਧ ਵਿਚ ਆਸਾਮ ਸਰਕਾਰ ਨੇ ਚੁਕੇ ਵੱਡੇ ਕਦਮ 2170 ਲੋਕ ਗ੍ਰਿਫ਼ਤਾਰ, 4 ਹਜ਼ਾਰ ਤੋਂ ਵੱਧ ਕੇਸ ਦਰਜ ਜਲ ਸਪਲਾਈ ਅਤੇ ਸੈਨੀਟੇਸ਼ਨ ਵਿਭਾਗ ਦਾ ਪਹਿਲਾ ਰਾਜ ਪੱਧਰੀ ਜਨਤਾ ਦਰਬਾਰ 6 ਫਰਵਰੀ ਨੂੰ- ਜਿੰਪਾ ਮਾਨ ਸਰਕਾਰ ਲੁਧਿਆਣਾ ਸ਼ਹਿਰ ਦੀ ਸਵੱਛਤਾ ਪ੍ਰਣਾਲੀ ਨੂੰ ਸੁਧਾਰਨ ਲਈ ਸਾਜੋ ਸਮਾਨ ਦੀ ਖਰੀਦ 'ਤੇ 7.77 ਕਰੋੜ ਰੁਪਏ ਖਰਚ ਕਰੇ...

ਕੇਸਰੀ ਵਿਰਾਸਤ

हांसी में पाकिस्तान से आई पंजाबी जूतियों की चर्चा घर घर में

सरहद पार से आया मोहब्बत का तोहफा , बुजुर्गो की 47 से पहले की यादों

 

हांसी ,24 दिसम्बर (मनमोहन शर्मा) -सोशल मीडिया ने अब अपने पिछड़े ईष्ट मित्रों व परिजनो से मिलने का एक साधन बन गया है । इसका प्रयोग यदि आप सकात्मक दृष्टि से करेगें तो फायदा बहुत है । ऐसे ही यूट्यूब चैनल से हम कुछ भी जानकारी ले सकते है ।

हांसी नगर में एक समाजसेवी व कंप्यूटर हार्डवेयर का इंजीनियर पुनीत मदान ने भारत – पाकिस्तान के वृद्धों को आपस में पुरानी यादों को उनसे सम्पर्क करके सामाजिक भाईचारा को मजबुत करने की बीड़ा उठाई है । इस मूहिम में एक टीम बनाकर समाज को सन्देश दिया है कि आज का युवा सकात्मक विचारों को अपनाते हुए दोस्ती के पैगाम का प्रचार व प्रसार में जुटा हुआ है । पाकिस्तान के तारिक इक़वाल ने अपने पूर्वजों की दोस्ती का सन्देश देते हुए पुनीत मदान के पास भेजी गई  पंजाबी जूती की चर्चा हांसी शहर में चल रही है ।

इस बारें में इस संवाददाता ने youtube पर चैनल के माध्यम से विडियो डालने वाले हांसी के पुनीत मदान को उनके दादा के गांव कुकारा, झंग पाकिस्तान से तोहफे के रूप में पंजाबी जूती जिसे वहां मुल्तानी खुस्सा कहा जाता है , के दो जोड़े जूती के आये है । वे इस तोहफे को पाकर खुशी जाहिर की है ।

उन्होंने बताया कि शख्स तारिक इक़बाल जो की उसी गांव से तालुक रखते है और फिलहाल वे दुबई में रहते है ने बड़ी शिद्दत से भेजा है ।

समाजसेवी पुनीत मदान ने बताया कि उनके दादा 47 से पहले झंग के रहने वाले थे । वे पाकिस्तान में हकीम का कार्य करते थे । वे 47 के बाद हांसी में आबाद हुए एव आजाद चौक (नीम चोक) हांसी में हकीम का काम किया| तारिक इकबाल ने आपने गाव से विस्थापित हुए लोगों को youtube के माध्यम से देख कर उन्होंने पुनीत को संपर्क किया और गांव की और से कोई निशानी भेजने की इच्छा जाहिर की ।

खास बात यह है कि ये खुस्से यानि जूती उन्होंने अपने गाव के उन मोची परिवार से बनवाई है , जिनके दादा परदादा 47 से पहले से जूती बनाने का काम करते थे । उनसे बनवा कर तारिक इक़बाल ने अपने पास दुबई मंगवाई और हांसी के मेरे दोस्त अशोक भूटानी जो दुबई परिवार सहित घुमने गए थे उनको होटल में पंहुचा कर आये ताकि हांसी पहुच जाए |

पुनीत मदान ने बताया उनके लिए एक इमोशनल फीलिंग है क्योकि ये जूती उस परिवार के बन्दे ने बनाई है जिनसे कभी उनके यानि पुनीत मदान के दादा हकीम श्री स्वः अमीर चंद मदान 47 से पहले बनवाया करते होंगे | देखकर बहुत ख़ुशी हुई की अगली पीढ़ी यानि आज की पीढ़ी भी अपने गाव की लोगों से मोहब्बत करते है|उन्होने आभार जताया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *