KESARI VIRASAT

ਕੇਸਰੀ ਵਿਰਾਸਤ

Latest news
ਮਾਂ ਬੋਲੀ ਦਿਹਾੜੇ ’ਤੇ ਪੰਜਾਬ ’ਚ ਦੀਪਕ ਬਾਲੀ ਵੱਲੋਂ ਕੱਢੀ ਗਈ ‘ਪੰਜਾਬੀ ਪ੍ਰਚਾਰ ਯਾਤਰਾ’ ਨੇ ਨਵਾਂ ਇਤਹਾਸ ਸਿਰਜਿਆ  ਅੰਦੋਲਨ ਵਿੱਚ ਹਾਈਟੈਕ ਟਰਾਲੀਆਂ ਵਾਲੇ ਕਿਸਾਨ: ਪੱਖੇ-ਏਸੀ ਲਗਾਏ, ਸੌਣ ਲਈ ਮੋਟੇ ਗੱਦੇ, ਮੋਬਾਈਲ ਰਸੋਈ, ਅੰਦਰ ਹੀ ਦਫ਼ਤਰ ਵ... ਪੰਜਾਬੀ ਸਾਹਿਤ ਅਕਾਦਮੀ ਲੁਧਿਆਣਾ ਦੀ ਚੋਣ ਲਈ ਡਾ. ਲਖਵਿੰਦਰ ਸਿੰਘ ਜੌਹਲ ਤੇ ਸਾਥੀਆਂ ਵੱਲੋਂ ਮਨੋਰਥ ਪੱਤਰ ਜਾਰੀ ਪੱਛਮੀ ਬੰਗਾਲ ਦੀ ਸੱਤਾ ਵਿੱਚੋਂ "ਮਮਤਾ" ਗਾਇਬ! ਕਿਸਾਨ ਅੰਦੋਲਨ 2024: ਫਸਲਾਂ 'ਤੇ ਘੱਟੋ-ਘੱਟ ਸਮਰਥਨ ਮੁੱਲ ਦੀ ਕੀ ਹੈ ਗਾਰੰਟੀ?: ਸਰਕਾਰ ਨੂੰ ਦੇਣ ਵਿੱਚ ਇਹ ਹੈ ਦਿੱਕਤ  ਕੇਂਦਰ ਨੇ ਪੰਜਾਬ ਦੇ 3 ਜ਼ਿਲ੍ਹਿਆਂ 'ਚ ਇੰਟਰਨੈੱਟ ਬੰਦ ਕੀਤਾ: ਨਾਰਾਜ਼ CM ਮਾਨ ਨੇ ਭੇਜਿਆ ਪੱਤਰ; ਕਿਸਾਨ ਦਿੱਲੀ ਵੱਲ ਮਾਰ... Kesari virasat tech news: ਮੋਬਾਈਲ ਨੂੰ ਚਾਰਜ ਕਰਨ ਦੀ ਚਿੰਤਾ ਖ਼ਤਮ; ਤੁਹਾਡੇ ਸਰੀਰ ਦੀ ਗਰਮੀ ਨਾਲ ਹੀ ਹੋਣਗੇ ਚਾਰਜ Farmers protest: ਦਿੱਲੀ ਕੂਚ ਦੇ ਮੱਦੇਨਜ਼ਰ ਪੰਜਾਬ ਨਾਲ ਲੱਗਦੀਆਂ ਹਰਿਆਣਾ ਦੀ ਹੱਦਾਂ ਸੀਲ ਮੰਦਰ 'ਚ ਦਾਖਲ ਹੋ ਕੇ ਕੀਤੀ ਮੂਰਤੀ ਦੀ ਭੰਨਤੋੜ, ਸ਼ਰਾਰਤੀ ਅਨਸਰ ਨੂੰ ਰੁੱਖ ਨਾਲ ਬੰਨ੍ਹ ਕੇ ਪੁਲਿਸ ਨੂੰ ਦਿੱਤੀ ਸੂਚਨਾ  42 ਹਜ਼ਾਰ ਰੁਪਏ ਰਿਸ਼ਵਤ ਲੈਣ ਦੇ ਦੋਸ਼ 'ਚ ਵਿਜੀਲੈਂਸ ਵੱਲੋਂ ਮਾਲ ਪਟਵਾਰੀ ਗ੍ਰਿਫਤਾਰ
You are currently viewing इस बार एनआईटीटीटीआर-चंडीगढ़ में लगेगा मीडिया चौपाल

इस बार एनआईटीटीटीआर-चंडीगढ़ में लगेगा मीडिया चौपाल

आयुर्वेद पांच महाभूतों चिकित्सा प्रणाली

केसरी विरासत के इस मंच आयुर्वेदिक दवाई को बेचने के लिए संपर्क करे - 9592306823


इस बार एनआईटीटीटीआर-चंडीगढ़ में लगेगा मीडिया चौपाल

केसरी समाचार सेवा: ‘मीडिया चौपाल’ संचारकर्मियों के वैचारिक आदान-प्रदान का एक सशक्त माध्यम है। मीडिया और समाज के सम्बन्धों को सुदृढ़ बनाने के लिए वर्ष 2012 में ‘मीडिया चौपाल’ की शुरुआत हुई थी। तब से यह चौपाल अलग-अलग जगह लग रहा है और संचारविदों के ज्ञान एवं अनुभव से सबको लाभान्वित कर रहा है।

इस वर्ष के ‘मीडिया चौपाल’ का आयोजन दि. 02 से 04 दिसंबर, 2022 को राष्ट्रीय तकनीकी शिक्षक प्रशिक्षण एवं अनुसंधान संस्थान (एनआईटीटीटीआर) चंडीगढ़ में होगा और विचार-विमर्श का केन्द्रीय विषय “अमृतकाल में भारत अभ्युदय : चुनौतियाँ एवं संकल्प” है।

इस चौपाल में लद्दाख से लक्षद्वीप तक के संचारक शामिल होंगे। ‘मीडिया चौपाल’ का प्रमुख उद्देश्य है – नेटवर्किंग, क्षमता संवर्धन और सशक्तिकरण के साथ-साथ संचार के सिद्धांत, प्रक्रिया और प्रारूपों के भारतीयकरण एवं मानवीयकरण, समाजीकरण और सकारात्मकता की ओर उन्मुख करना। इस तीन दिवसीय मीडिया चौपाल में लगभग 10 विमर्श सत्रों के साथ-साथ मीडिया प्रदर्शनी और पुस्तक प्रदर्शनी होगी।

इस आयोजन में देश भर के 500 से अधिक संचारक (मीडिया पर्सन्स), फिल्म एवं कला जगत की नामचीन हस्तियाँ, सम्पादक, लेखक, साहित्य और जनमत को प्रभावित करने वाले महत्वपूर्ण लोग शामिल होंगे l

‘मीडिया चौपाल-2022’ में होने वाले विमर्श के आधार पर मीडिया का भारतीयकरण एवं उसे लोकमंगलकारी बनाने का प्रयत्न करना इस आयोजन का उद्देश्य है। कुलमिलाकर ‘मीडिया चौपाल’ में होने वाला विमर्श मीडिया जगत के लिए नये आयाम और नये द्वार खोलेगा।

विदित हो कि देश अपनी स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगाँठ मना रहा है। ऐसे में स्वतन्त्रता के इस ‘अमृत महोत्सव’ काल को संचार की दृष्टि से समझने के लिए इस वर्ष का विषय “अमृतकाल में भारत अभ्युदय : चुनौतियाँ एवं संकल्प” प्रासंगिक हो जाता है.

Leave a Reply