DMA ਵਲੋਂ ਜਾਰੀ “ਗੰਜਾ ਬਾਬਾ ਕੋਹੜ” Part-2

DMA ਵਲੋਂ ਜਾਰੀ “ਗੰਜਾ ਬਾਬਾ ਕੋਹੜ” Part-2

ਜਲੰਧਰ (ਕੇਸਰੀ ਨਿਊਜ਼ ਨੈੱਟਵਰਕ) -ਆਮ ਕਹਾਵਤਾਂ ਨੇ, “ਜਿਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦੀ ਖੂਹ ਵਿੱਚ ਆਵਾਜ਼ ਮਾਰੋਗੇ ਉਸੇ ਤਰ੍ਹਾਂ ਦਾ ਜਵਾਬ ਆਵੇਗਾ”, ” ਜੈਸੀ ਕਰਨੀ ਵੈਸੀ ਭਰਨੀ “, ” ਜੈਸੇ ਕੋ ਤੈਸਾ “, ” ਇਸ਼ਕ ਮੁਸ਼ਕ ਤੇ ਪਾਪ ਕਦੇ ਵੀ ਗੁੱਝੇ ਰਹਿੰਦੇ ਨਾ “ਆਦਿ। ਅਜਿਹੀਆਂ ਸਾਰੀਆਂ ਕਹਾਵਤਾਂ ਜਲੰਧਰ ਸ਼ਹਿਰ ਦੇ ਇੱਕ ਉਦਯੋਗਪਤੀ ਤੋਂ ਅਖਬਾਰ ਮਾਲਕ ਬਣੇ ਵਿਵਾਦਿਤ ਵਿਅਕਤੀ ਉੱਪਰ ਢੁੱਕ ਰਹੀਆਂ ਜਾਪਦੀਆਂ ਹਨ। ਸ਼ਹਿਰ ਵਿੱਚ ਉਸ ਉਦਯੋਗਪਤੀ ਦੇ ਸਤਾਏ ਕਾਮਿਆਂ ਅਤੇ ਹੋਰ ਲੋਕਾਂ ਰਾਹੀਂ ਬਾਹਰ ਆਉਣ ਵਾਲੀਆਂ ਦੰਦ ਕਥਾਵਾਂ ਦਾ ਕਿਸੇ ਨੇ ਕਦੀ ਗੰਭੀਰ ਨੋਟਿਸ ਨਹੀਂ ਲਿਆ ਸੀ। ਪਰ ਸਿਆਣੇ ਕਹਿੰਦੇ ਨੇ ” ਪਾਪੀ ਕੇ ਮਾਰਨੇ ਕਉ ਮਹਾਂਬਲੀ ਪਾਪ ਹੈ। “

ਇਹ ਕੁਦਰਤ ਦਾ ਨਿਯਮ ਵੀ ਹੈ ਜਿਸਨੂੰ ਨੌਵੀਂ ਪਾਤਸ਼ਹੀ  ਗੁਰੂ ਤੇਗ ਬਹਾਦੁਰ ਜੀ ਵੀ ਇਸ ਤਰ੍ਹਾਂ ਕਹਿੰਦੇ ਨੇ “ਜੋ ਉਪਜਿਓ ਸੋ ਬਿਨਸੁ ਹੈ ਪਰੋ ਆਜ ਕੇ ਕਾਲ। ” ਜੋ ਪੈਦਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਉਹ ਖਤਮ ਵੀ ਹੁੰਦਾ ਹੈ। ਤੇ ਜੋ ਪਤੰਗ ਹਵਾ ਦੇ ਹੁਲਾਰੇ ਨਾਲ ਆਸਮਾਨ ਛੂੰਹਦੀ ਹੈ ਉਹ ਵਾਪਸ ਜਮੀਨ ਉੱਪਰ ਜਰੂਰ ਆਉਂਦੀ ਹੈ। 

ਹੁਣ ਆਪਣੀ ਅਖ਼ਬਾਰ ਵਿੱਚ ਉਸ ਵਲੋਂ ਚਲਾਏ ਜਾ ਰਹੇ ਵਿਅੰਗ ਕਾਲਮ ਵਿੱਚ ਡਿਜੀਟਲ ਮੀਡੀਆ ਨਾਲ ਜੁੜੇ ਪੱਤਰਕਾਰਾਂ ਦੀ ਸੰਸਥਾ ਨਾਲ ਹੀ ਇਸ ਵਿਅਕਤੀ ਦਾ ਪੇਚਾ ਪੈ ਗਿਆ ਜਾਪਦਾ ਹੈ। ਹਾਲਾਂਕਿ ਆਪਣੇ ਧੰਨਬਲ, ਬਾਹੂਬਲੀਆਂ, ਉੱਚ ਅਧਿਕਾਰੀਆਂ ਨਾਲ ਸਬੰਧਾਂ ਕਾਰਣ ਕਈ ਵਾਰ ਵੱਡੇ ਵੱਡੇ ਵਿਵਾਦਾਂ ਵਿੱਚੋਂ ਵੀ ਸਾਫ਼ ਬਚ ਨਿਕਲਣ ਵਿੱਚ ਕਾਮਯਾਬ ਰਹੇ ਇਸ ਧਨਾਡ ਦਾ ਵਾਲ ਵੀ ਕੋਈ ਵਿਅਕਤੀ ਵਿੰਗਾ ਨਹੀਂ ਕਰ ਸਕਿਆ। ਪਰ ਕਹਿੰਦੇ ਨੇ ਕਿ ਜਦੋਂ ਵਕਤ ਮਾੜਾ ਆ ਜਾਵੇ ਤਾਂ ਹਾਥੀ ਉੱਪਰ ਬੈਠੇ ਨੂੰ ਵੀ ਕੁੱਤਾ ਵੱਢ ਜਾਂਦਾ ਹੈ। ਜਦੋਂ ਪਰਮਾਤਮਾ ਨੇ ਕਿਸੇ ਦਾ ਹੰਕਾਰ ਖਤਮ ਕਰਨਾ ਹੁੰਦਾ ਹੈ ਤਾਂ ਨਿੱਕੀ ਜਿਹੀ ਕੀੜੀ ਵਿੱਚ ਵੀ ਆਪਣਾ ਬਲ ਰੱਖ ਕੇ ਵੱਡੇ ਵੱਡੇ ਲਸ਼ਕਰ ਤਬਾਹ ਕਰਵਾ ਸਕਦਾ ਹੈ। ਅਜਿਹਾ ਹੀ ਇਸ ਮਾਮਲੇ ਵਿੱਚ ਡਿਜੀਟਲ ਮੀਡੀਆ ਐਸੋਸੀਏਸ਼ਨ ਨਾਲ ਇਸ ਵਿਅਕਤੀ ਵਲੋਂ ਲੈ ਲਏ ਪੰਗੇ ਤੋਂ ਜਾਪਦਾ ਹੈ ਜਿਸ ਐਸੋਸੀਏਸ਼ਨ ਦੇ ਮੈਂਬਰਾਂ ਨੇ ਉਸ ਅਖ਼ਬਾਰ ਵਿੱਚ ਛਾਪੇ ਜਾ ਰਹੇ ਵਿਅੰਗ ਬਾਣਾ ਦਾ ਜਵਾਬ ਉਸ ਤੋਂ ਵੀ ਵਧੇਰੇ ਤਿੱਖੇ ਬਾਣਾ ਨਾਲ ਦੇਣ ਦਾ ਐਲਾਨ ਕਰ ਦਿੱਤਾ ਹੈ। 

ਆਉ ਅੱਜ ਪੜੋ ਡੀਐਮਏ ਵਲੋਂ ਜਾਰੀ ਦੂਜੀ ਕਿਸ਼ਤ ਦੇਵਨਾਗਰੀ ਲਿੱਪੀ ਵਿੱਚ ਲਿਖੀ ਪੰਜਾਬੀ ਵਿੱਚ। 

*⚫Part -2 गंजा बाबा कौहड़*

 

 

*🚨दैनिक हनेरा दे गंजे संपादक बाबा कोहड दा जीना होएया हराम! सारे शहर विच हो रही थू थू, डिजिटल मीडिया दे पत्रकारां ने खोता कराया बुक, पुतले बनने दित्ते,जल्दी निकलूगा जुलूस, अशीतल मन वाले गंजे कोहड़ अते मोटे टल्ल दे काले कारनामा दी होई लंबी लिस्ट तैयार*

 

*🛑दैनिक हनेरा दे आपणे मुलाजमा ने डिजिटल मीडिया दे पत्रकारां नू दित्ती वधाई ते केहा चंगा होया गंजे कोहड़ की खोली पोल, असीं आप बड़े दुखी हां*

 

गंजा बाबा कोहड़ पार्ट -2

 

एक कहावत है कि बांदर की जाने अदरक दा सवाद हे कहावत और यह कहावत अशीतल मन वाले गंजे बाबा कोहड दैनिक हनेरा अखबार दे मालिक ते पूरी फिट बैंदी है|

पत्रकारिता नु बदनाम करन वाले अखोती एडिटर गंजा कोहड़ नू तां पत्रकारी दा ऊड़ा ऐड़ा वी नईं आऊंदा, शहर ‘च बदले लैन लई ते झूठी बल्ले- बल्ले करवान लई खोली है गंजे कोहड़ ने एह हनेरा अखबार!

 

दोस्तो अज्ज मै तुहाडे नाल ईक गल्ल करनी है ते करनी वी ऐसे तरां नाल ही पंजाबी बिच्च है| एहदा इक खास कारण एह वी है कि अज्ज-कल बजार ‘च इक बजारु घटिया ते बहोत ही गिरी होई अखबार जेहदा नाम ऐदे कमां दे मुताबिक दैनिक हनेरा है ते ओहदे अशीतल मन वाले गंजे संपादक बारे अज्ज गल्ल करन दा दिल है।

 

 

 कल आपां सारेयां ने इक्क गंजे बाबा कोहड़ बारे गल्ल कीती सी| अज्ज मैं ओसे गंजे बाबा कोहड़ बारे ते उसदे घटिया अखबार बारे गल्ल करनी है। 

 

वैसे एहनु बाबा कैहना वी तां

बाबा शब्द दा बहुत वड्डा अपमान ए, इस लई मैं हुन एहनु सिर्फ गंजा कोहड़ ही कहुंगा। बाकि मैनुं पता ए कि तुसीं तां खुद समझदार हो ही।

 

अज्ज कल इस घटिया गंजे बंदे ने आपने कोहड़ नू पूरे शहर ‘च फैलाना शुरु किता होएया है , अज तक इस ने नफरत, द्वेष ,दुश्मनी ,ठग्गी, बईमानी ,गंदी राजनीति, ब्लैकमेलिंग, धक्केशाही रूपी कोहड़ तो इलावा होर शहर नूं दित्ता वी की ऐ ।

लोका वल्लों पूरी तरह नकारी जा चुकी गंजे कोहड़ दी दैनिक हनेरा अखबार अज्ज कल मेहनतकश सोशल मीडिया अते इमानदार न्यूज़ पोर्टलां अते ओहना दे पत्रकारां दे खिलाफ जहर उगल रही ऐ, न तां इस अशीतल मन वाले दे सिर ते वाल हन ते न दिमाग ए !

इस नु कोई पुछे तेनु केहड़ा सरकार ने न्यूज़ पोर्टल खोलन दा कोई लाइसेंस दिता होया ऐ, RNI वल्लों तेनु अखबार चलान दी मंजूरी है, न कि तेनु RNI ने ए लिख के दे दिता कि तू दैनिक हनेरा नाम दा पोर्टल खोल सकदा एं। तेनु खुली छूट व । 

असी ते गंजे कोहड़ नु ए चैलेंज करदें आं कि तू पोर्टल चला रिहां , दस्स तेरे कोल पोर्टल चलान दा केहड़ा सर्टिफिकेट आ , अपनी अखबार विच पोर्टल चलान दे सर्टिफिकेट दी कॉपी नु छाप के लोकां नु दिखा तां सई, 

सानू पता ए तेरे कोल कोई सर्टिफिकेट नईं ऐ। तेरी जानकारी लई दस्स देईये के सरकार वल्लों कोई वी इस तरां दा कोई आर्डर नईं जारी होऐया कि देश विच चल रहे हज़ारां न्यूज़ पोर्टल्स फर्जी, नकली या गैर कानूनी ए, जे गंजे कोल इस तरह दा कोई आर्डर है तां अपनी टुच्ची दैनिक हनेरा अखबार विच छाप देवे, तेनु किने रोकया ! पर झूठ लिख लिख के पोर्टलां वाले पत्रकारां नु बदनाम ते न कर ! बाकी रही सानु लीगल नोटिस भेज के या कोर्ट केस करके डरान वाली गल ते गंजे कोहड़ी असी सिर्फ बुरे कर्म और भगवान तो डरदे व, 

 बाकी तू साफ साफ ए क्यों नही दसदा कि दैनिक हनेरा दी आड़ विच तूं कई नजैज कॉलोनियां अते कई तरां दे गलत धंधे कर रिहा ऐं अते कई माफियावां तों तैनू मोटी हफ्ता वसूली हो रही ऐ| ते पोर्टलां वाले पत्रकारां ने जदों पोल खोली तां तेरे तलवे चट्टन वाले खुड्डा दे मोटे टल्ल ने किवें तेरियां नजैज कॉलोनियां कटवान विच तेरा साथ दिंदा ऐ | विस्तार विच ऐ सब पार्ट 3 विच दँसागे।

 नाल ही दस्सांगे कि किवें खुड्डा दा मोटा टल्ल रिश्वतखोरी नाल करोड़पति बनेया। 

पर तेनु हुन इक गल दस दईये पोर्टलां वालेयां ने तेरी असली औकात सारे शहर नु दिखानी शुरू कर दित्ती ऐ, इस गंजे नु एह नईं पता कि डिजिटल मीडिया दी ताकत की ऐ। 

इस नुं लगदा सी के आपनी टुच्ची अखबार दे दम ते एह पोर्टलां वाले मेहनती पत्रकारां नु डरा देवेगा !

 इसनू एह वी वैहम सी कि सिर्फ मैं ही पुठियां खबरां ला सकदां ते लोकां नू ब्लैकमेल करके डरा सकदां हां, किसे होर कोल ख़बर लिखन दा कोई हक ही नही। पर साढी पैहली खबर ने ही इस फूकरे दी हवा कड्ड दित्ती ऐ !

 हालांकि मै दस्स देवां कि एस गंजे नु आप तां इक्क अक्खर वी लिखना नहीं आऊंदा ते एह सिर्फ आपने 2 नंबर दे पैसे दे सिर ते ही कुज मजबूर पत्रकारां नु डरा धमका के कम करवाऊंदा ऐ। अपने पत्रकारां ते हथ वी चुकदा ऐ अते ओहना नु रज के जलील करदा ऐ, कईयां नू जात धरम दीआं गालां वी कढदा ऐ, जिस बारे सारे जहान नु पता है। एना ही नईं अपने कई पत्रकारां अते स्टाफ दी इस ने कई कई महीने दी तनखा दब्बी होई ऐ| कई बेचारे सच्चे सुच्चे इंसान मजबूरी दे मारे अज वी कम कर रहे नें ते कई बेचारे पत्रकारां ने कम ही छड्ड़ दिता। 

क्यों कि न तां ऐ दैनिक हनेरा दे पत्रकारां नु इज्जत देंदा ऐ ते न ही तनख्वाह| बाकी कुज इस तरह दे मुलाजम वी हन जो कई तरह दी नजैज वसूली करके इस गंजे दा टिड्ड भरदे हन ! 

तुहानु दस देईये कि डिजिटल मीडिया ने एहदे पुतले नु खोते ते बिठा के ते जुतियां दा हार पा के सारे शहर दा चक्कर लगान दा पूरा इंतजाम वी कर लेया होया ऐ, जल्द ही जित्थे एह लोकां कोलो पैसे दे हार पवाऊंदा है औथे ही एहदे अते एस दे टल्ल दे जुतियां दे हार वी पैंदे नज़र आऊंगे। सारा खुड्डा खड़ के वेखुगा एस दे टल्ल दा जलूस !

गंजे कोहड़ नु आप तां ईक अक्खर वी लिखना नहीं आऊंदा:-

थोड़ी जही गल्ल मैं मीडिया दी वी कर लवां, क्योंकि तुहानु सब नुं पता ही ऐ कि एहदे जहे घटिया सोच वाले अशीतल मन वाले गंजे कोहड़ नु तां एह वी नईं पता कि पत्रकार की हुंदा है ते ओहदा कम्म की हुंदा ऐ। जिंवें कैहंदे ने कि बांदर की जाने अदरक दा स्वाद।

 पर गंजे कोहड़ नु ते बस रात नु ए हिसाब लगाना हुंदा ए कि अज शहर विचों किन्नी वसूली होई ऐ| नशा, लॉटरी, देह व्यापार, हुक्का बार अते शहर विच बन रहीयां नजैज बिल्डिंगां अते कॉलोनियां तों किनी वसूली होई ए| कोई न इक इक करके तेरे सारे काले कारनामे उजागर होंनगे । 

 जिने अखबार ही लोकां नाल बदले लैन अते अपने पैसे दे दम्म ते अपनी झूठी शोहरत चमकान ते अपनी भड़ास कड्डन लई ते ब्लैकमेलिंग, ठग्गी मारन लई शुरु कीती होवे ओहने पत्रकारी तों की लैना। 

पत्रकारी नु पैसे दे दम्म ते बदनाम कर रिहा है गंजा कोहड़-

पत्रकारी तां ईक नोबल प्रोफैशन ऐ, जिस नु एहदे वरगे घटिया सोच वाले झोली चुक अमीरां ने बदनाम कर दित्ता है| पर मैं एथे एह दसना चाहुंदां हां कि हर कलम बिकाऊ नहीं हुंदी ते अखबार दा लसंस किसे दी ईमानदारी दा सबूत नहीं हुंदा। नाले अखबार दा लसंस लैन दा मतलब एह नहीं हुंदा कि तुं ते तेरे ख़ास पत्रकार लोकां नुं खुलेआम ठग्गी जान ते पोर्टल दे पत्रकार तेरी पोल न खोलन, कोई कुज कहे वी ना। 

तेरे पत्रकारां नु तां लोकां ने पता नहीं किन्नी वारी फड़-फड़ के कुट्टेया ऐ। जेहनां दियां वीडियों वी लोकां ने देखीयां ने। ते जेहड़े तेरे कुछ पत्रकार चंगे ने बेचारे, ओह सानू फ़ोन करके कैह रहे ने कि तुसीं चंगा किता, गंजे नु नँगा कर रहे हो ते बड़े ही खुश होके कह रहे ने कि डिजिटल मीडिया वालेयां ने अशीतल मन वाला गंजा ठोक दिता चंगा होया।

 शहर भर दे दर्जना पत्रकार वीर जो कि अलग अलग मीडिया हाउसां नाल जुड़े होए ने, ओवी एही बोल रहे ने कि डिजिटल मीडिया दे पत्रकारां दी हिम्मत नु दात देनी चाहीदी ऐ कि गंजे नु बेनकाब कर रहे हो। बाकी जेहड़े पीठ पीछे साजिश , निंदा, चुगली षड्यंत्र कर रहे है ओहना दी वी वारी आन वाली है !

असीं दैनिक हनेरा दे ओहना वीरा दा दर्द वी समझ सकदे आं, जिहना नु गंजा कोहड़ जलील करदा ऐ । कोई गल्ल नीं वीरों तुसीं फ़िक्र न करो तुहाडे गंजे कोहड़ दी असी आपे अक्ल टकाने लै आनी ऐ, तुसीं बस बैठ के अपने भरावां दिया पोर्टलां ते खबरा पढ़ के स्वाद लवो। सानु तुहाडे नाल कोई गिला नही, न ही साड़ी लड़ाई किसे पत्रकार दे खिलाफ व , 

अहंकार तां रावण दा वी नहीं रिहा ते ऐ गंजा किस खेत दी मूली ऐ । पर तुसीं ध्यान रखियो गंजे पीछे लगके तुसीं पोर्टलां वाले पत्रकारां नाल ना बगाड़ लैना, ते तूसी किसी दिया गला विच वी न आना, कई पत्रकार ही तुहानु भड़का सकदे हन।

 असीं तां 100 वारी मत्थे लगना ऐ इक दूजे दे, इस गंजे ने ते कदी फील्ड विच आना नही।

 

उलटा चोर कोतवाल को डांटे, 

 

दोस्तो एथे मैं एह वी दस्स देवां कि जेहड़े इल्जाम एह डीजिटल मीडिया ते लगा रेहा है ना असल ‘च औह सारे कम्म तां एहदे आपने हन। जिंवें कहिंदे ने कि उलटा चोर कोतवाल नू डांटे… एस गंजे कोहड़ ने तां आप सरकार नू चूना ला के पता नहीं किन्ने गलत कम्म शुरु कीते होए ने। नजैज कलोनीयां जेहड़ीयां एहने कट्टियां ओहदी खबर जद डीजिटल मीडिया ने लगाई तां गंजे कोहड़ नु मिर्चां लग गईयां ते एहने सारे डीजिटल मीडिया नू ठग्ग लिखना शुरु कर दिता।

 

काले कम्मं ‘च साथ दिंदा है मोटा टल्ल

 

ते नाले मैं एह वी दस्स दवां कि ऐस दे सारे 2 नंबर दे कम्मां ‘च ऐहदा साथ खुड्डा दा इक मोटा जिहा टल्ल वी दे रेहा है। ते एहना दोना ने रल्ल के पता नई 2 नंबर दियां किन्नीयां कलोनीयां कट्टियां ने। जिस तों बाद एह मोटा टल्ल वदेश वी घुम्म के आया ऐ। औ भला सरकारी बंदे कोल वदेशां ‘च घुम्मन ते ऐश करन लई एना पैसा कित्थों आया। उड़दी-उड़दी गल्ल एह वी पता लगी है कि टल्ल ने तां शहर दे आले दुआले एहदे नाल मिल के दर्जनां कलोनीयां कट दितियां ने। मैं तां सलाह दिंदा हां तुहानू सब नूं कि जेकर तुसी कोई मकान दुकान जां कोई वी बिल्डिंग बना रहे ओ तां पहलां सरकारी नक्शा जरुर पास करवाओ तां कि कोई कुत्ता-बिल्ला, गंजा कोहड़ या गंंजे कोहड़ दा बंदा आ के तुहानु धमका न सके ते ब्लैकमेल करके तोहाडे तों पैसे ना भोट सके| क्योंकि सरकारी कनून तां भई सब लई इको तरां दे हुंदे ने।

 

बाकि कल करांगे गल्ल

 

अज्ज लई बस ऐना ही क्योंकि भाई गल्लां तां बहुत ने, ते जे मै इस गंजे कोहड़ बारे सारा कुज लिखन लग जावां तां वैब ते वी जगा मुक जानी ऐ। क्योंकि एहदे काले कारनामेंयां दी तां लिस्ट ही बड़ी लंबी ऐ। बाकी कल मै तुहानु सारेयां नु एह वी दस्सांगां की पोर्टलां वाले वी सरकार तो रजिस्टर्ड हुंदे ने , एह जरुरी नहीं है कि हर पोर्टल वाला गल्त ही होवे। वैसे हर अखबार वाला वी सही होवे एह वी नहीं हुदा|

जेहदा सब तो वड्डा उदाहरण ते गंजा कोहड़ तुहाडे सब दे सामने है ही। बाकी कल तुहानु एहदे होर वी कई किस्से सुनावांगा सो हुन कल तक लई रब्ब राखा।

(ਡਿਜੀਟਲ ਮੀਡੀਆ ਐਸੋਸੀਏਸ਼ਨ ਦਾ ਦਾਅਵਾ ਹੈ ਕਿ ਉਨ੍ਹਾਂ ਦੀ ਇਹ ਲੜੀ ਸੱਚ ਸਾਹਮਣੇ ਆਉਣ ਤਕ ਜਾਰੀ ਰਹੇਗੀ ਜਿਸਨੂੰ ਕੇਸਰੀ ਵਿਰਾਸਤ ਦੇ ਸੁਹਿਰਦ ਪਾਠਕਾਂ ਦੀ ਦਿਲਚਸਪੀ ਅਤੇ ਜਾਣਕਾਰੀ ਲਈ ਛਾਪਣ ਦੀ ਖੁਸ਼ੀ ਲੈ ਰਹੇ ਹਾਂ।)